अमरीका को हॉट डॉग इतना पसंद क्यों है?

  • 13 जुलाई 2019
हॉट डॉग इमेज कॉपीरइट Loop Images/Getty Images

यदि कोई खाना सच में अमरीका का प्रतिनिधित्व करता है तो वह है हॉट डॉग.

लंबे बन में लिपटे फ्रैंकफर्टर्स (सॉसेज) यहां हर बेसबॉल गेम में बेचा जाता है. हर बारबेक्यू में इसे ग्रिल किया जाता है.

कैरोलिना से लेकर कैलिफ़ोर्निया तक सड़क किनारे लगी दुकानों में भी यह आसानी से मिलता है.

अमरीका के लोगों ने इसे 1860 के दशक में तब खाना शुरू किया था जब वो सिविल वॉर के ज़ख़्मों को भरकर फिर से खड़े हो रहे थे.

आज ये अमरीका के हर कोने में मिलता है, लेकिन हॉट डॉग का असली घर है न्यूयॉर्क का कोनी आइलैंड.

इमेज कॉपीरइट All Canada Photos/Alamy
Image caption न्यूयॉर्क के कोनी आईलैंड को हॉट डॉग का घर माना जाता है

हॉट डॉग का घर

न्यूयॉर्क में गर्मी बढ़ी तो मैं मैनहट्टन छोड़कर ठंडी हवा खाने कोनी आइलैंड पहुंच गई.

तट के पास ही ब्रुकलिन पार्क है. इसके लकड़ी के बोर्डवॉक (समुद्र में आगे तक फैला प्लेटफॉर्म) और सुनहरी रेत पर ख़ासी भीड़ है.

लोग यहां सैर करते हैं और खेलते हैं. यहां की खाने-पीने की दुकानें पिछले सौ साल से न्यूयॉर्क के लोगों की सेवा कर रही हैं.

सर्फ एंड स्टिलवेल एवेन्यू के कोने पर मैंने कई लोगों को एक ऊंचे सफ़ेद साइनबोर्ड के नीचे खड़ा देखा.

उस पर नैथन के मशहूर हॉट डॉग लिखा था. इस बोर्ड में विज्ञापन भी था, 'यही असली है. दुनिया का मशहूर हॉट डॉग, 1916 से.'

दो ब्लॉक आगे ऐतिहासिक साइक्लोन रोलरकोस्टर के बगल में एक छोटी दुकान के साथ दूसरा साइनबोर्ड लगा था- "कोनी आइलैंड के फेल्टमैन का असली हॉट डॉग- 1867 से."

असली और पहला

मैं समझती थी कि कोनी आइलैंड का हॉट डॉग नैथन से शुरू हुआ था, जिसका नाम तट पर बने थीमपार्क से भी जुड़ता है.

लेकिन नैथन चाहे जो दावे करें, ये बन को हॉट डॉग बनाने वाली पहली कंपनी नहीं है.

ब्रुकलिन के निवासी और कोनी आइलैंड के इतिहासकार माइकल क्विन का कहना है कि जर्मनी से आए आप्रवासी चार्ल्स एल. फेल्टमैन नैथन से कई दशक पहले यहां हॉट डॉग खिलाते थे.

फ़ेल्टमैन 1856 में अमरीका आए थे. जर्मनी से आए कई आप्रवासियों की तरह वह भी फ्रैंकफर्टर सॉसेज के दीवाने थे, जो उनके देश में बहुत लोकप्रिय है.

फ़ेल्टमैन प्रशिक्षित बेकर थे. उन्होंने 1865 में ब्रुकलिन बेकरी शुरू की. वह समुद्र तट पर क्लैम बेचते थे और ठेला गाड़ी से कोनी आइलैंड के व्यापारियों को पाई की सप्लाई करते थे, जिससे उनको अच्छी कमाई होती थी.

1860 के दशक के आख़िर में रेलमार्ग बन जाने से मैनहट्टन से कई लोग कोनी आइलैंड तट पर आने लगे.

अमरीकी हेरिटेज मैग्जीन के पूर्व संपादक रिचर्ड एफ स्नो के मुताबिक ग्राहकों ने फेल्टमैन से कहा कि वे ठंडे क्लैम नहीं, हॉट डॉग खाना चाहते हैं.

1867 में फेल्टमैन ने अपनी ठेला गाड़ी में बदलाव कराए. कारीगरों ने उस पर सॉसेज पकाने के लिए चारकोल की अंगीठी और ब्रेड गर्म करने के लिए मेटल बॉक्स लगा दिया.

इमेज कॉपीरइट Granger Historical Picture Archive/Alamy
Image caption चार्ल्स एल. फ़ेल्टमैन ने 1867 में हॉट डॉग का आविष्कार किया था

5 सेंट का हॉट डॉग

उस साल गर्मियों में जब अमरीका गृह युद्ध से उबर रहा था, फेल्टमैन ने कोनी आइलैंड पर 5-5 सेंट में क़रीब 4,000 "कोनी आइलैंड रेड हॉट्स" बेचे.

जर्मनी में फ्रैंकफर्टर बिना ब्रेड के परोसे जाते थे. फेल्टमैन ने उसमें बदलाव किया. ब्रेड में लपेटने से समुद्र तट पर सॉसेज को खाना आसान था.

अगले कई साल बाद तक भी 'हॉट डॉग' शब्द नहीं बना, लेकिन अमरीकी तट पर जर्मनी का फ्रैंकफर्टर बेचने का फेल्टमैन का प्रयोग बेहद ही कामयाब रहा.

1871 में फेल्टमैन ने समुद्र किनारे एक छोटा प्लॉट लीज़ पर लिया और वहां 'फेल्टमैन्स ओशन पैवेलियन' नाम से रेस्तरां खोला.

सदी के अंत तक फेल्टमैन की ठेला गाड़ी पूरे ब्लॉक में फैले साम्राज्य में तब्दील हो गई.

वहां 9 रेस्तरां, रोलर कोस्टर, हिंडोला, बॉलरूम, आउटडोर मूवी थिएटर, होटल, बीयर गार्डन, बाथहाउस, पैवेलियन और अल्पाइन विलेज थे, जहां कभी अमरीकी राष्ट्रपति विलियम होवर टाफ़्ट की मेज़बानी हुई थी.

शेरोन शिट्ज़ और स्टुअर्ट मिलर ने अपनी किताब "द अदर आइलैंड्स ऑफ़ न्यूयॉर्क सिटी" में लिखा है कि फेल्टमैन ने कोनी आइलैंड रेलरोड के अध्यक्ष एंड्रयू कल्वर को इस बात के लिए राज़ी कर लिया कि वह रेलगाड़ियों का टाइम टेबल बदल दें जिससे ग्राहक डिनर के लिए भी रुक सकें.

खूब दौलत कमाई

फेल्टमैन ओशन पैवेलियन कॉम्प्लेक्स में सी-फ़ूड डिनर कराने के साथ-साथ दिन में करीब 40,000 तक रेड हॉट बेच लेते थे. 1910 में अमीर व्यक्ति के रूप में उनका निधन हुआ.

उस समय उनकी कंपनी उनके दो बेटे- चार्ल्स और अल्फ्रेड संभालते थे, जिसमें 1,000 से ज़्यादा लोगों को रोज़गार मिला था. 1920 के दशक में इसे दुनिया का सबसे बड़ा रेस्तरां माना जाता था.

20वीं सदी की शुरुआत में फेल्टमैन परिवार ने पोलैंड के आप्रवासी नैथन हांडवेकर को नौकरी पर रखा. उनका काम सॉसेज रोल को काटने का था.

नैथन के पोते लॉयड हांडवेकर ने अपनी किताब में लिखा है कि उनके दादा के दो साथियों ने उनको अपना रेड हॉट बिज़नेस खोलने की सलाह दी थी.

उन दिनों पैसे बचाने के लिए नैथन फेल्टमैन की रसोई में ज़मीन पर भी सो लेते थे.

1916 में 300 डॉलर का कर्ज़ लेकर नैथन हांडवेकर ने फेल्टमैन कॉम्प्लेक्स से थोड़ी ही दूरी पर अपनी दुकान खोली. उनके पास उनकी पत्नी की दादी के मसाले का नुस्खा भी था.

नैथन ने महसूस किया कि फेल्टमैन से प्रतिस्पर्धा करने के लिए उनको लोगों को लुभाना पड़ेगा. उन्होंने अपने हॉट डॉग 5 सेंट में बेचने शुरू किए, जबकि फेल्टमैन रेस्तरां में इसके लिए 10 सेंट लिए जाते थे.

इमेज कॉपीरइट Erica Schroeder/Alamy
Image caption फ़ेल्टमैन के पूर्व कर्मचारी नेथन हांडवेकर ने 1916 में अपनी दुकान खोल ली

फेल्टमैन परिवार ने बेच दिया कारोबार

वैश्विक मंदी और दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान कारोबार चलाना मुश्किल हुआ तो फेल्टमैन परिवार ने 1940 के दशक में अपना बिज़नेस बेच दिया.

नये मालिक ने उसे कुछ साल चलाया, लेकिन 1954 में उनको भी यह कारोबार बंद करना पड़ा.

पांच दशकों में पहली बार कोनी आइलैंड के बोर्डवॉक पर सिर्फ़ नैथन के हॉट डॉग मिलने लगे. इससे फेल्टमैन के बड़े और रसीले हॉट डॉग के दीवानों को मायूस होना पड़ा.

क्विन कहते हैं, "मंदी के युग में मेरे दादा फेल्टमैन के वफादार ग्राहक थे. मेरे दादा कहते थे कि उनको नैथन के मुक़ाबले फेल्टमैन के हॉट डॉग ज़्यादा पसंद थे."

क्विन ने ख़ुद कभी फेल्टमैन के असली हॉट डॉग नहीं खाए, लेकिन उनके दादा ने जो कहानियां सुनाई थीं वे उनके ज़हन में रह गईं. जवान होने पर वह अपने दादा के अनुभव को ख़ुद आज़माना चाहते थे.

नया कारोबार

माइकल क्विन और उनके दो भाई दक्षिणी ब्रुकलिन में बड़े हुए. कोनी आइलैंड उनका खेल का मैदान था.

बचपन में उन्होंने अपने भाइयों के साथ मिलकर कारोबार शुरू करने की सोची थी, लेकिन वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हुए 9/11 हमले में उनके भाई जिमी की मौत हो गई.

क्विन और उनके भाई जो ने जिमी की याद में फेल्टमैन ब्रांड को फिर से ज़िंदा करने की ठानी.

संयोग से क्विन के दादा फेल्टमैन के एक कर्मचारी के अच्छे दोस्त थे और उसने फेल्टमैन के असली रेड हॉट्स के मसालों का नुस्खा उनको बताया था. क्विन के दादा ने वह नुस्खा परिवार के लोगों को बताया.

क्विन ने 2015 में फेल्टमैन के परिवार से उनके ब्रांड का नाम ख़रीदा और ईस्ट विलेज के थिएटर में एक छोटी दुकान खोली.

आख़िरकार मई 2017 में वह फेल्टमैन के रेस्तरां वाली जगह पर अपना रेस्तरां खोलने में क़ामयाब हुए.

क्विन ने मुझसे पूछा कि क्या मैं उनके रेड हॉट्स को चखना पसंद करूंगी.

उसे प्रीमियम बीफ़ और मसालों के सही मिश्रण से तैयार किया गया था, जिसमें कोई अतिरिक्त चीज़ (केमिकल) नहीं मिलाई गई थी. यह उतना ही स्वादिष्ट था, जितना सुना था.

तीखापन बढ़ाने के लिए उन्होंने उस पर साउर्क्राउट और सरसों डाले. यह नुस्खा उनका अपना था. पहले तो मैं सरसों से हिचकिचाई, लेकिन क्विन को मायूस देखकर मैंने वह ले लिया.

इमेज कॉपीरइट Pacific Press/Getty Images
Image caption 1954 में फ़ेल्टमैन के व्यापार बंद करने के बाद उनके परिजनों ने फिर उसे खड़ा किया

करोड़ों का कारोबार

डेली मील ने फेल्टमैन के हॉट डॉग को अमरीका के 10 सबसे अच्छे हॉट डॉग में शामिल किया है.

गॉथमिस्ट (न्यूज़ वेबसाइट) ने लिखा है कि "फेल्टमैन के मेन्यू में एक ही आइटम है और वह है हॉट डॉग, लेकिन आपने अपने जीवन में जितने हॉट डॉग खाए होंगे उनमें यह सबसे अच्छा हो सकता है."

आज फेल्टमैन के हॉट डॉग न्यूयॉर्क से लेकर कैलिफोर्निया तक 1,500 सुपरमार्केट में उपलब्ध हैं.

हाल ही में इसने सबसे बड़े हॉट डॉग- लंबाई 5 फ़ीट और वज़न 75 पाउंड- का गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है.

उधर नैथन हांडवेकर की कारोबारी चतुराई और उनकी पत्नी की दादी के नुस्खे ने एक अंतरराष्ट्रीय व्यापारिक साम्राज्य की नींव रखी, जिसके उत्पाद 10 देशों के 55,000 से अधिक सुपरमार्केट, क्लब स्टोर और रेस्तरां में बिकते हैं.

कोनी आइलैंड में हर साल 4 जुलाई को होने वाली नैथन की हॉट डॉग खाने की अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता को देश भर में टीवी पर दिखाया जाता है.

नैथन की सालाना आमदनी 4 करोड़ डॉलर से ज़्यादा है, जो फेल्टमैन से भी कहीं अधिक है. लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि वह सबसे बेहतर है.

नैथन की हॉट डॉग प्रतियोगिता छह बार जीतने वाले गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्डधारी तकेरू कोबायाशी भी कथित तौर पर फेल्टमैन के जायके को पसंद करते हैं.

लेकिन आप सिर्फ़ कोबायाशी के कहने पर भरोसा न करें. फेल्टमैन के हॉट डॉग को सुपरमार्केट के खोजें, नैथन के हॉट डॉग को भी मंगाएं और ख़ुद चखकर देखें कि बेहतर कौन है.

(मूल लेख अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें, जो बीबीसी ट्रैवल पर उपलब्ध है.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार