अरबों की दौलत से भरा डूबा जहाज़, जिसके हैं कई दावेदार

  • 24 सितंबर 2019
अरबों की दौलत से भरा जहाज जो कार्टाजेना तट के पास डूबा हुआ है इमेज कॉपीरइट Luiz Ribeiro/Alamy

वह 8 जून 1708 की तारीख थी जब कोलंबिया के कार्टाजेना तट के पास स्पेन का सैन जोस गैलियन लपटों में घिर गया था.

स्पेन का यह जहाज़ दोपहर से ब्रिटेन के ख़िलाफ युद्ध लड़ रहा था. लेकिन रात होते-होते 62 तोपों वाला यह जहाज़ कैरीबियाई सागर में समा गया.

जहाज़ के साथ करीब 600 लोग और 20 अरब डॉलर कीमत का सोना, चांदी और जवाहरात डूब गए.

सदियों तक सैन जोस गैलियन समुद्र की तलहटी में गुम रहा. 2015 में इस जहाज़ का रहस्य उजागर होना शुरू हुआ, जब कोलंबिया की सरकार ने आधिकारिक रूप से एलान किया कि उस जहाज़ को ढूंढ लिया गया है.

इमेज कॉपीरइट travel4pictures/Alamy

ख़ज़ाने के कई दावेदार

चार साल बाद गैलियन अब भी कोलंबिया के समुद्र में तल से 600 मीटर नीचे पड़ा हुआ है. जहाज़ पर लदी दौलत के कई दावेदार सामने आ गए हैं.

डूबे हुए गैलियन को समुद्री जहाज़ो के मलबे का "होली ग्रेल" कहा जाता है. कोलंबिया की सरकार ने ये नहीं बताया कि वो डूबा कहाँ था.

माना जाता है कि सैन जोस कार्टाजेना से करीब 40 किलोमीटर दूर रोजेरियो द्वीपसमूह के पास डूबा है. इन द्वीपों पर उष्णकटिबंधीय जंगल हैं जो नेशनल पार्क का हिस्सा हैं.

कई छोटे मोटरबोट रोज़ाना सैलानियों को वहां ले जाते हैं. समुद्र तल पर गुज़रते हुए यह कल्पना करना कठिन नहीं है कि नीचे कहीं सैन जोस का ख़ज़ाना पड़ा हुआ है.

ख़ज़ाने से भरे जहाज़ सदियों से लोगों को रोमांचित करते रहे हैं. नोबेल पुरस्कार से सम्मानित लेखक गैब्रिएल गार्सिया मार्केज़ ने "लव इन दि टाइम ऑफ कॉलेरा" में गैलियन के बारे में लिखा है.

इस उपन्यास का मुख्य पात्र फ्लोरेन्टिनो एरिज़ा समुद्र की तलहटी तक जाने और सैन जोस के ख़ज़ाने को लाने की योजना बनाता है.

इमेज कॉपीरइट Victoria Stunt

जादुई कैरीबिया

बगोटा से आई सैलानी बिबियाना रोजस मेजिया कहती हैं, "कैरीबिया बहुत जादुई है." मेजिया ने अपने परिवार के साथ इस्ला द्वीप के तट पर पूरा दिन बिताया है. यह यहां का सबसे बड़ा द्वीप है.

"यह जादुई यथार्थ हमारे देश में है. हम नहीं जानते कि असल में सैन जोस गैलियन पर कितना खजाना है. यह कोई बड़ी किंवदंती भी हो सकती है."

सैन जोस गैलियन मई 1708 के आखिर में पनामा की पोर्ट सिटी पोर्टोबेलो से चला था. इस पर सोना, चांदी और बेशकीमती जवाहरात लदे थे, जिनको स्पेन के नियंत्रण वाले पेरू के खदानों से निकाला गया था.

अनुमान है कि आज के हिसाब से उसकी कीमत 10 अरब डॉलर से 20 अरब डॉलर के बीच रही होगी.

यह दौलत स्पेन के राजा फिलिप पंचम के लिए थी, जो स्पेन के उत्तराधिकार की लड़ाई में उपनिवेशों से मिले धन पर आश्रित थे.

इमेज कॉपीरइट Timewatch Images/Alamy

ब्रिटेन से लड़ाई

गैलियन के कप्तान जोस फर्नांडेज़ डि सैंटिलन को पता था कि उत्तराधिकार की लड़ाई में शामिल ब्रिटेन के जहाज़ कार्टाजेना में हमला करने के इंतज़ार में होंगे.

कार्टाजेना में इस जहाज़ को मरम्मत के लिए थोड़ी देर रुकना था. उसके बाद उसकी अगली मंज़िल क्यूबा का हवाना थी और फिर उसे स्पेन जाना था.

कप्तान ने योजना के मुताबिक यात्रा जारी रखी. 8 जून की शाम को सैन जोस के ख़ज़ाने के लिए युद्ध शुरू हो गया.

कार्टाजेना के नैवेल म्यूज़ियम ऑफ़ दि कैरीबियन के क्यूरेटर गोंज़ालो ज़ूनिगा का कहना है कि पिस्तौल, तलवार और चाकुओं से लैस ब्रिटिश नौसैनिकों ने तीन बार गैलियन पर चढ़ने और उस पर कब्जा करने की कोशिश की.

वह कहते हैं, "सैन जोस युद्ध जीत रहा था। लेकिन.. हमें नहीं मालूम आख़िरी क्षणों में उसकी क्या स्थिति थी."

हो सकता है कि गैलियन का एक पतवार नष्ट हो गया हो या जहाज पर मौजूद लोगों ने कप्तान के ख़िलाफ़ बगावत कर दी हो- ज़्यादातर लोग नागरिक थे और किसी के आदेश के नीचे नहीं थे.

यह तो निर्विवाद है कि कोई भी पक्ष यह नहीं चाहता था कि गैलियन और उसका ख़ज़ाना डूब जाए.

ज़ूनिगा का मत है कि सैन जोस को सरेंडर करने और खाली हाथ स्पेन जाने की जगह कप्तान ने ख़ुद जहाज के बारूद में आग लगा दी होगी और उसे अपने हाथों से नष्ट कर दिया होगा.

इमेज कॉपीरइट Courtesy of ICANH)

ख़ज़ाने की ख़ोज

27 नवंबर 2015 को एक रोबोटिक पनडुब्बी REMUS 600 ने सैन जोस को आधिकारिक तौर पर ढूंढ लिया.

यह पनडुब्बी अमरीका की वूड्स होल ओशियनोग्राफिक इंस्टीट्यूशन की थी. करीब 4 मीटर लंबी यह स्वचालित पनडुब्बी समुद्र तल के नीचे 6 किलोमीटर गहराई तक तलहटी की छानबीन कर सकती है.

यह सैन जोस से 9 मीटर की ऊंचाई तक उतरकर उसकी तस्वीरें लेने में सक्षम थी. इसने तोपों की तांबे की नाल की तस्वीरें लीं जिन पर डॉल्फिन की आकृतियां खुदी हुई थीं. शोधकर्ताओं ने उसी से सैन जोस की पहचान की.

कोलंबियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ एंथ्रोपोलॉजी एंड हिस्ट्री के निदेशक अर्नेस्टो मोंटेनेग्रो कहते हैं, "सैन जोस गैलियन औपनिवेशिक इतिहास से संबंधित सूचनाओं का केंद्र है."

"यह अमरीकी क्षेत्र में यूरोप, ख़ासकर स्पेन के करीब 300 साल लंबे औपनिवेशिक युग का प्रतिनिधि है."

कोलंबिया तट के पास करीब 1,000 जहाज डूबने का अनुमान है, जो ढूंढे जाने का इंतज़ार कर रहे हैं.

सैन जोस गैलियन को कोलंबिया के समुद्र में ढूंढ लिया गया है, लेकिन इस बात की गारंटी नहीं है कि वह इसकी सीमाओं में ही रहेगा.

इमेज कॉपीरइट EFE News Agency/Alamy

ख़ज़ाने के कई दावेदार

स्पेन ने गैलियन के हिस्से पर अपना दावा करने में दिलचस्पी दिखाई है. बोलीविया के क़ारा क़ारा मूल निवासियों ने भी उस पर दावा किया है.

सैन जोस का खजाना उनकी जमीन से ही निकाला गया था, जो कभी पेरू की वाइसरॉयल्टी का हिस्सा हुआ करता था.

सैन जोस को लेकर करीब 40 साल लंबा मुकदमा भी चला. अमरीकी कंपनी सी सर्च अर्माडा (SSA) का कहना था कि उसने 1980 के दशक में सैन जोस को ढूंढा था और आधी दौलत पर उसका हिस्सा बनता है.

कंपनी का कोलंबिया सरकार के साथ अनुबंध का भी दावा था. कोलंबिया के सुप्रीम कोर्ट ने 2007 में उसके पक्ष में फ़ैसला सुनाया था.

लेकिन 2015 में कोलंबिया के पूर्व राष्ट्रपति जुआन मैनुएल सांटोस ने जब गैलियन के मिलने का एलान किया तब उन्होंने SSA को श्रेय नहीं दिया.

कोलंबिया की उपराष्ट्रपति मार्टा लुसिया रामिरेज़ ने जून में बयान दिया कि "सी सर्च अर्माडा का सैन जोस गैलियन या उसकी सामग्री पर कोई अधिकार नहीं है" क्योंकि उन्होंने जिस जगह पर सैन जोस को ढूंढने का दावा किया था वह असल जगह से मेल नहीं खाता. यह मुकदमा अब भी कोलंबिया की सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है.

इस साल कोलंबिया सरकार सैन जोस गैलियन के खजाने को निकालने के लिए एक और निजी कंपनी के साथ करार करने वाली थी, लेकिन उसे स्थगित कर दिया गया.

फिलहाल 2015 में हुई तलाश में शामिल मैरीटाइम आर्कियोलॉजी कंसल्टेंट्स (MAC) एकमात्र दावेदार है.

एक निजी कंपनी के साथ साझेदारी करके सैन जोस की सामग्रियों को फिर से बांटा जा सकता है और कंपनी को 45 फीसदी तक सामग्री दी जा सकती है.

शर्त यह है कि कोलंबिया सरकार उसे सांस्कृतिक धरोहर के रूप में वर्गीकृत न करे. कोलंबिया को अभी इसका निर्धारण करना है.

इमेज कॉपीरइट JASSEN TODOROV
Image caption सांकेतिक तस्वीर

सांस्कृतिक धरोहर

इतिहासकार, लेखक और सैन जोस के विशेषज्ञ फ्रांसिस्को मुनोज़ के लिए यह सबसे ख़राब स्थिति होगी.

वह कहते हैं, "उसके बारे में पूरी तरह जानने का निर्विदाद अधिकार इंसानियत का है. कोलंबिया को एक योग्य संरक्षक बनने की ज़रूरत है."

इसका मतलब है कार्टाजेना में एक संग्रहालय बने जहां गैलियन के खजाने को पूरी तरह प्रदर्शित किया जाए.

मुनोज़ कहते हैं, "उस प्रदर्शनी को कौन नहीं देखना चाहेगा? सैन जोस गैलियन जो कहानी सुनाएगा, वह देखने वालों को अचंभित कर देगा."

2018 में पूर्व राष्ट्रपति सांटोस ने ट्विटर पर लिखा था, "सैन जोस गैलियन राष्ट्रीय समुद्र में डूबा था जिसकी खोज इतिहास की महानतम खोजों में से एक है. जलमग्न सांस्कृतिक विरासत कानून के साथ हम इसे हासिल कर सकते हैं."

अपने ट्वीट को उन्होंने हैशटैग #NuestraCulturaElMejorLegado के साथ ख़त्म किया, जिसका अर्थ होता है "हमारी संस्कृति सर्वश्रेष्ठ विरासत."

विशेषज्ञों का कहना है कि इस परियोजना में हड़बड़ी नहीं की जा सकती. सामुद्रिक पुरातत्वविद् जुआन गुइलेर्मो मार्टिन कहते हैं, "जहाज 300 साल से डूबा हुआ है और यह संरक्षण के अधिकार की गारंटी देता है."

"यदि कोलंबिया में अभी ऐसी स्थिति नहीं है कि हम जोखिम उठाएं तो ऐसा करना समझदारी नहीं है. यह कोलंबिया की विरासत के लिए जिम्मेदारी का बुनियादी सिद्धांत है, बल्कि मानवता के भी."

जब तक सैन जोस को निकाला नहीं जाता, कार्टाजेना के लोगों और सैलानियों के लिए म्यूजियम बनाना दूर की कौड़ी है.

कोलंबिया के पास अभी तक उस बेशकीमती जहाज को अपनी सीमा में रखने के अधिकार की गारंटी नहीं है.

अभी तो कार्टाजेना और रोजेरियो द्वीपसमूह पर आने वाले सैलानी बस समुद्र को निहार सकते हैं जिसकी तलहटी में सैन जोस स्थिर पड़ा हुआ है और अपने खजाने की हिफाजत कर रहा है.

(मूल लेख अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें, जो बीबीसी ट्रैवल पर उपलब्ध है.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार